महँगी दवाओं से परेशान हैं? इन एप्स से मिलेंगी सस्ती दवाएँ

जब कभी भी हम बीमार पड़ते हैं तो ज़ाहिर है हम डॉक्टर के पास जाते हैं और चाहते हैं कि दवा लेकर हम जल्द ही ठीक हो जाएं। पर आपको शायद ही मालूम हो की ज्यादातर डॉक्टर्स हमें महंगी दवाएं ही लिखते हैं जिससे ब्रांडेड दवा कंपनियों को खूब मुनाफा होता है। ऐसे में सरकार चाहती है कि देश में हर आदमी को सस्ते इलाज के साथ ही सस्ती और जेनरिक दवाएं मिलें। जिसका मकसद है कि गरीब आदमी इलाज और दवाओं के अभाव में दम ना तोड़े और मिडिल क्लास परिवार इलाज के खर्च के बोझ से टूट नहीं जाए। इसके लिए सरकार ने http://janaushadhi.gov.in/ नाम से एक वेबसाइट शुरू की है, जिसकी एप्प को स्मार्टफोन पर डाउनलोड किया जा सकता है। जैसे ही आप बीमारी का नाम फीड करेंगे, आपको उस बीमारी में इस्तेमाल होने वाली दवाइयों और उनकी कीमत के बारे में जानकारी मिल जाएगी। ये दवाइयां आपके शहर में किन-किन लोकेशन पर मिलेंगी, इसकी डिटेल भी उपलब्ध होगी। डिपार्टमेंट ऑफ फॉर्मास्युटिकल्स की बॉडी ब्यूरो ऑफ फॉर्मा पीएसयू ऑफ इंडिया (बीपीपीआई) के तहत इस साइट और एप्प को विकसित किया गया है। इसमें हेल्पलाइन की सुविधा भी दी गई है, जिसका टॉल-फ्री नंबर है 1800-180-8080। इस एप्प के ज़रिये आप अलग-अलग दवाओं या किसी खास बीमारी में इस्तेमाल होने वाली दवाओं की सूची देख सकते हैं। साथ ही इसके ज़रिये आपको यह भी पता चल जाएगा कि आपके आस-पास सबसे नज़दीक कौन सा मेडिकल स्टोर है, जहां जेनेरिक दवाइयां उपलब्ध हैं। इसके लिए आपको सबसे पहले शहर और फिर एरिया सेलेक्ट करना होगा। इसके बाद उस एरिया में मौजूद स्टोर का एड्रेस आपको दिखेगा। साथ ही, उस स्टोर का रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर भी आपको दिखेगा, जिससे आप उनसे संपर्क कर पाएंगे। डिजिटल दुनिया में ऐसी कई मेडिकल एप्प मौजूद हैं जिसके ज़रिये आप यह जान सकेंगे कि जो दवा आप लेने जा रहे हैं, उसमें कौन सा सॉल्ट का इस्तेमाल है। उस सॉल्ट वाली कौन सी दूसरी 5 ब्रांडेड दवाइयां मार्केट में उपलब्ध हैं। इसके साथ ही आप जेनेरिक दवा की क्वालिटी उन ब्रांडेड दवाइयों की क्वालिटी से कंपेयर कर जानकारी भी हासिल कर सकते हैं। इसके अलावा ये दवाएं किन देशों में इस्तेमाल होती हैं, यह भी आसानी से पता लगाया जा सकता है।
तो आइये विस्तार से जानते हैं कि किन-किन हेल्थकेयर एप्प के ज़रिये हम सही और सस्ती दवाईयां व जानकारियां हासिल कर सकते हैं-
 एमजी: सस्ती दवाओं के बारे में जानकारी हासिल करने का यह एक बढ़िया और सरल विकल्प है। आप चाहें, तो किसी भी दवा का नाम डालकर उसका सस्ता विकल्प तलाश कर सकते हैं या दवाओं का प्रिसक्रिप्शन भी इस एप्प में अपलोड कर सस्ती दवाइयों का विकल्प भी जान सकते हैं। साथ ही इस एप्प से दवाइयां ऑर्डर करने पर आपको 20 फीसदी और हेल्थ टेस्ट में 40 फीसदी तक की छूट मिलती है। यह एप्प देश के 502 शहरों में दवाओं की डिलीवरी करती है। इसके अलावा आपके शहर के प्रमुख डॉक्टर्स के नाम, उनकी विशेषज्ञता, लैब टेस्ट, ई-कंसल्टेंसी, हेल्थ प्रोडक्ट्स, आर्टिकिल्स आदि के बारे में विस्तार से लिखा गया है।
फार्मा सही दाम: इस एप्प का मकसद है दवा कंपनियों और रिटेलर्स को जीवनरक्षक दवाओं के ज्यादा दाम वसूलने से रोकना। इस एप्प के इस्तेमाल से दुकानदार लोगों से दवाई की अधिक कीमत नहीं ले सकेगा। यह मोबाइल एप्प दवाओं का वह दाम दर्शाएगा जो कि एनपीपीए यानि (नैशनल फार्मासूटिकल प्राइसिंग अथॉरिटी) ने तय किए हैं। यह एप्प मौजूदा दवाओं को सस्ते दामों में आम आदमी तक पहुंचाने का काम करेगा।
आरएक्सप्रेस: इस हेल्थ केयर मैनेजमेंट एप्प में आपको कई तरह की सुविधाएं मिलती हैं। जैसे दवाओं का प्रेस्किप्शन अपलोड करना, पैथलैब मेडिकल टेस्ट्स, दवाएं खरीदना, साइकोथैरेपी, डॉक्टरों की कंसल्टेशन, होमकेयर, मेडिकल डिवाइसेज़, इक्विपमेंट आदि जैसी सर्विसेज़ व प्रोडक्ट मुहैया कराती हैं। साथ ही इसमें मरीज़ों को टाइम पर दवाएं लेने के लिए टाइम-टेबल भी याद दिलाया जाता है। यह मरीज़ों को डॉक्टर्स, पैथ लैब्स के अलावा केमिस्ट्स के साथ कनेक्ट करने की सुविधा भी देता है।
मेलबॉक्स टेक्नोलॉजीसः यह एप्प पूरे देश में हॉस्पिटल, फार्मेसी और ब्लडबैंक जैसी हेल्थकेयर फैसिलिटी की जानकारी जुटाने में मदद करता है। यह एक क्लाउड बेस्ड एप्लीकेशन है, जो किसी भी पोर्टेबल डिवाइस के साथ काम करता है। इस एप्प ने देशभर के 1.7 लाख फार्मेसी रिटेलर्स से ज्यादा के साथ टाई-अप किया है। साथ ही 20 हज़ार से अधिक फार्मा और हेल्थकेयर प्रोडक्ट सप्लायर्स और एक लाख हेल्थकेयर मार्केटिंग कंपनीज़ इससे जुड़ी हैं।
मेडिकल यूनीक आईडेंटिटीः बेंगलुरू की मेडिकल यूनीक आईडेंटिटी निजी स्वास्थ्य सूचनाओं को मैनेज करता है, ताकि लोगों को क्वालिटी हेल्थकेयर मिल सके। इसके हेल्थकेयर मैनेजमेंट प्रोफेशनल्स पर्सनल हेल्थ इंफॉर्मेशन, हॉस्पिटल्स, डाएग्नोस्टिक सेंटर और अन्य स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के रिकॉर्ड सुरक्षित रखने में स्पेशलाइज हैं। मेडिकल यूनीक आईडेंटिटी यूज़र के हेल्थ रिकॉर्ड और डेटा को आजीवन मेंटेन करने की सुविधा देता है।
तो इन एप्प की मदद से कंज्यूमर्स सभी दवाओं की अपडेट एमआरपी की जानकारी ले सकता है और जेनरिक दवाईयों व उनके दाम के प्रति अपनी जागरूकता बढ़ा सकता है। उपर्युक्त एप्स के इस्तेमाल में आने के बाद दुकानदार लोगों से दवाई की अधिक कीमत नहीं वसूल पाएगा।

giay nam depgiay luoi namgiay nam cong sogiay cao got nugiay the thao nu