यू-ट्यूब को इस तरह बनायें अपनी आमदनी का जरिया

यू-ट्यूब पर एक से बढ़कर एक आकर्षक और दिलचस्प चैनल मौजूद हैं। जिसके ज़रिये लोग लोकप्रियता हासिल करने के साथ-साथ मोटी कमाई भी कर रहे हैं। आप भी इनमें से किसी एक प्लैटफॉर्म पर अपना चैनल लॉन्च कर सकते हैं।

जी हां, सही सुना आपने। अब आप वीडियो बनाकर अच्छे पैसे कमा सकते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि पैसे कमाने के साथ-साथ आप नेम और फेम भी कमा सकते हैं। कहते हैं कि कुछ कर गुज़र जाने वाला जज़्बा रखने वालों को कोई नहीं रोक सकता और उनके इसी जज़्बे को पूरा करने के लिए यू-ट्यूब एक बड़ा माध्यम बन गया है। ऐसा संभव तभी है जब आप अपना एक यू-ट्यूब चैनल बनाएं और उस पर अपना वीडियो अपलोड करते रहें। आपके अंदर कोई भी हुनर होना चाहिए चाहे वो हो डांस, सिंगिंग, कुकिंग, एक्टिंग, कॉमेडियन या कुछ और। यू-ट्यूब के सहारे आपको अपनी मंज़िल मिल सकती है। आइये जानते हैं कि कैसे आप अपना यू-ट्यूब चैनल बना के नेम-फेम कमा सकते हैं-
यू-ट्यूब पर एक से बढ़कर एक आकर्षक और दिलचस्प चैनल मौजूद हैं। जिसके ज़रिये लोग लोकप्रियता हासिल करने के साथ-साथ मोटी कमाई भी कर रहे हैं। आप भी इनमें से किसी एक प्लैटफॉर्म पर अपना चैनल लॉन्च कर सकते हैं। इसके लिए सबसे पहले आपको ज़रूरत पड़ेगी गूगल अकाउंट की, अपने चैनल के नाम से एक जी-मेल अकाउंट बनाएं। इसके बाद इस अकाउंट में लॉग-इन करके यू-ट्यूब.कॉम पर ओपन करें, इसके बाद यहां पर अपनी प्रोफाइल पिक्चर पर क्लिक करेंगे तो आपको क्रीएटर स्टूडियो नज़र आएंगे, इस पर क्लिक करके आप पहुंच जाएंगे सीधा अपने डैशबोर्ड पर।
अपने चैनल को सजाएं और सवारें- अपने डैशबोर्ड पर सबसे पहले चैनल को सजाने का काम करें। चैनल के लिए एक अच्छा बैनर बनाएं और ध्यान रखें कि उसकी पिक्सल साइज़ 2560X1440 से अधिक ना हो। ये फाइल 4 एमबी से कम ही रहे। इस साइज़ के बैनर कंप्यूटर, मोबाइल और टीवी पर अच्छे से डिस्प्ले होगा। ये बात ज़रूर ध्यान में रखें कि आप जिस इमेज को अपने गूगल प्लस अकाउंट के लिए यूज़ करेंगे तो वही इमेज आपके यू-ट्यूब चैनल के आइकन की तरह डिस्प्ले होगी और यही आपके चैनल की पहचान होगी। इसलिए इसको खुद ही डिज़ाइन करें कहीं से कॉपी ना करें तो बेहतर होगा।
डिटेल्स- चैनल बैनर और लोगो के बाद बारी आती है अपने चैनल के कंटेंट और डिटेल्स देने की। अपने चैनल के डैशबोर्ड में जाकर चैनल के बारे में डिटेल्स दें। लोगों को बताएं की आपके चैनल पर कैसा कंटेंट है और उसे कब अपलोड किया जाता है और आपसे कोई कैसे कॉनटेक्ट कर सकता है।
हटके नाम- अपना यू-ट्यूब चैनल बनाने के लिए आपके पास एक अच्छा नाम होना ज़रूरी है। नाम थोड़ा औरों से अलग और दिलचस्प होना चाहिए और आपके चैनल के कंटेंट के बारे में बताने वाला होना चाहिए। कोई भी नाम चुनने से पहले ये रिसर्च ज़रूर कर लें कि इस नाम से पहले कोई और चैनल तो नहीं।
प्रोडक्शन के खेल- एक अच्छा यू-ट्यूब चैनल बनाने के लिए आपके पास अच्छा और दिलचस्प कंटेंट होना चाहिए। आपके अच्छे कंटेंट के कारण ही लोग आपके चैनल पर बार-बार आएंगें।
यू-ट्यूब वीडियो के लिए आपके पास अच्छा और नया आइडिया, कैमरा, वीडियो एडिटर और स्क्रिप्ट होनी चाहिए। प्रोडक्शन के काम 3 फेज़ में होता है पहला प्रोडक्शन, प्री-प्रोडक्शन और आखिरी पोस्ट प्रोडक्शन।
प्री-प्रोडक्शन-
रिसर्च- कोई भी वीडियो बनाने से पहले उसके बारे में रिसर्च ज़रूर करें। रिसर्च से ये पता चल जाता है कि जिस आइडिया से आप वीडियो बनाने जा रहे हैं वो पहले बना हुआ है या नहीं। अगर आप से मिला-जुला वीडियो पहले से इंटरनेट पर मौजूद है तो आपके वीडियो को बहुत ही कम लोग देखेंगे क्योंकि ऑडियंस नए कंटेंट को पसंद करती है।
स्क्रिप्ट- एक वीडियो बनाने के लिए सबसे ज्यादा ज़रूरत होती है एक स्क्रिप्ट की जिसके लिए आपको सबसे पहले वीडियो स्टोरी लिखनी पड़ेगी।
स्क्रीनप्ले- स्क्रीनप्ले में आप अपनी स्क्रिप्ट से जुड़े एक-एक सीन को लिखते हैं। एक सीन कई सारे शॉट्स को लेकर बनता है जैसे स्क्रिप्ट के मुताबिक एक्टर को घोड़े से उतरकर मैदान में जाना है तो पहले आपको घोड़े का शॉट लेने पड़ेगा, फिर घोड़े के रुकने के और फिर एक्टर के घोड़े से उतरने के शॉट। ये सब शॉट्स को मिलाकर एक पूरा सीन बनेगा। स्क्रीनप्ले में एक के बाद एक शॉट के बारे में लिखना होता है।
लोकेशन- आपको अपना वीडियो इंडोर शूट करना है या आउटडोर, पहले ये क्लीयर करना होगा। आप अपनी ज़रूरत के हिसाब से शूट कर सकते हैं चाहे वो घर हो या घर से बाहर। परंतु घर से बाहर शूट करते वक्त अपना आईडी प्रूफ ज़रूर रखें ताकि शूट के वक्त आपको कोई परेशानी ना हो। और अगर आप अपने शूट में पब्लिक का भी इस्तेमाल कर रहे हैं तो सबसे पहले उनकी परमिशन लें। अगर आप सड़क किनारे किसी का इंटरव्यू कर रहें हैं तो पहले लोगों से पूछ लें, ज़बरदस्ती इंटरव्यू लेने की कोशिश ना करें।
प्रोडक्शन- वीडियो बनाने का काम प्रोडक्शन में आता है चाहे कितना वक्त लग जाए, वीडियो अच्छा बनना चाहिए। कई बार घंटों के शॉट में कुछ मिनटों का वीडियो निकलकर आता है। वीडियो बनाने के लिए कई बार 1 से 2 दिन तक लग जाते हैं। वीडियो बनाने के लिए आपको कुछ टूल्स की ज़रूरत पड़ती है।
कैमरा- अगर आपके पास डीएसएलआर कैमरा है तो अच्छी बात है। इसकी वीडियो क्वॉलिटि अच्छी है। ये कैमरा 20 हज़ार तक का आ जाता है। अगर आपके पास आई फोन या 8 मेगापिक्सल से ज्यादा का कोई स्मार्टफोन है तो आप उसका भी इस्तेमाल कर सकते हैं या फिर 1000 या 2000 में कैमरापर्सन भी हायर कर सकते हैं।
ट्राइपोड- अपना वीडियो शूट करते वक्त कैमरा हिले नहीं इसके लिए ट्राइपोड का इस्तेमाल करें। इसकी रेंज मार्केट में 300 रुपये है। आप ज्यादा हाइट के लिए बड़े ट्राईपैड भी ले सकते हैं जिनकी कीमत 800 रुपये तक है।
रिफ्लैक्टर- अगर आपके शॉट की जगह पर ज्यादा लाइट है तो एक्टर के फेस पर लाइट की शैडो पड़ेगी जो वीडियो में बेहद खराब लगता है। ऐसे में आपको रिफ्लैक्टर की ज़रूरत पड़ेगी।
माइक- माइक के लिए आप अपने घर में मौजूद फोन को भी यूज़ कर सकते हैं, पर यूज़ करने से पहले उसकी क्वॉलिटी को चेक कर लें। या फिर आप कॉलर माइक भी ले सकते हैं जो मार्केट में 1500 रुपये तक मिल जाएगा।
मेकअप- एक अच्छा वीडियो बनाने के लिए एक्टर्स का मेकअप बहुत ज़रूरी है। आप चाहें तो हल्का-फुल्का मेकअप खुद कर सकते हैं।
बैकअप- अपना वीडियो शूट के दौरान बैकअप का ध्यान ज़रूर रखें। कैमरा की एक्स्ट्रा बैटरी, सप्लीमेंट माइक और रिफ्लैक्टर साथ लेकर चलें।
पोस्ट प्रोडक्शन- पोस्ट प्रोडक्शन के दैरान रॉ वीडियो में काट-छांट कर काम के क्लिप्स निकाले जाते हैं और उसे एडिट किया जाता है। वीडियो एडिट के लिए कई सारे सॉफ्टवेयर यूज़ किए जाते हैं जैसे कि अडोब प्रेमियर और फाइनल कट प्रो।
ध्यानपूर्वक अपलोड करें वीडियो- वीडियो एडिट करने के बाद बारी आती है वीडियो यू-ट्यूब पर अपलोड करने की। वीडियो का टाइटल ऐसा रखें जिससे पता चले कि वीडियो में आखिर है क्या। टाइटल ऐसा होना चाहिए जिसको आसानी से सर्च किया जा सके, जैसे की आप अभी किसी वीडियो को ऑनलाइन सर्च करते हैं।
जितना ज्यादा प्रोमोशन उतनी ज्यादा पहचान-
अपना वीडियो अपलोड करने के बाद इसका प्रोमोशन ज़रूर करें। पहले आप अपने परिवार, दोस्तों और रिश्तेदारों को ये वीडियो देखने के लिए बोलें और उसके बाद वॉट्सएप, हाइक, फेसबुक, ट्विटर जैसी सोशल नेटवरकिंग प्लैटफॉर्म पर शेयर करें।
तो ऐसे होगी कमाई- यू-ट्यूब से पैसा वीडियो मोनेटाइज़ेशन के ज़रिये कमाया जा सकता है। चैनल के वीडियो को मोनेटाइज़ करने के लिए आप क्रिएटर स्टूडियो पर क्लिक करके अपने चैनल पर आएं। यहां आपको लेफ्ट हैंड पर चैनल लिखा हुआ दिखेगा। इसमें स्टेटस और फीचर पर क्लिक करने के बाद वहां आपको मोनेटाइज़ेशन का ऑप्शन मिलेगा। इस ऑप्शन को आप इनेबल कर दीजिए और इनेबल करने के बाद यू-ट्यूब आपको मोनेटाइज़ेशन चालू करने के लिए पूछता है। इस पर क्लिक करते ही यू-ट्यूब पार्टनरशिप फॉर्म ओपन हो जाता है, फॉर्म भरकर अपने गूगल एडसेंस को इस से लिंक करें। गूगल अगले एक हफ्ते में आपको मोनेटाइज़ेशन रिव्यू भेजता है। अगर आपके चैनल पर ओरिजनल कंटेंट है तो आपका चैनल मोनेटाइज़ हो जाता है।
वीडियो मोनेटाइज़ होने से आपके वीडियो से पहले एक यू-ट्यूब एड चलता है। यू-ट्यूब वीडियो के नीचे भी कुछ एड डिस्प्ले करता है। अगर कोई यूज़र उस एड पर क्लिक करता है तो आपको फायदा होता है। ऐसा अक्सर सुनने को मिलता है कि 1000 से ज्यादा व्यू होने पर 1 डॉलर मिलता है लेकिन यू-ट्यूब से कमाई किसी एक फैक्टर पर निर्भर नहीं करती है। आपके चैनल पर किन देशों से व्यूज़ आ रहे हैं और कौन कितनी देर तक वीडियो देख रहा है, इन बातों पर भी रेवेन्यू निर्भर होता है।
ब्रैंड एंडोर्समेंट- यू-ट्यूब पर ब्रैंड एंडोर्समेंट से काफी रैवेन्यू आता है। आप अपने चैनल के हिसाब से किसी भी ब्रैंड को अप्रोच कर सकते हैं।
मर्चेंडाइज़- जैसे-जैसे आपका चैनल ऑडियंस के बीच पॉपुलर हो जाएगा वैसे ही आप खुद एक ब्रैंड बन जाएंगे। आप अपने ब्रैंड की शर्ट, वॉच, ब्रैसलेट और कप्स लॉन्च कर सकते हैं।
कब और कैसे आएंगे पैसे- अपना वीडियो अपलोड करने के 1 महीने 25 दिन बाद आपके अकाउंट में पैसे आने शुरू होंगे। इसके लिए सबसे पहले आपको गूगल एडसेंस में अकाउंट बनाना होगा। इसके लिए आप अपना जी-मेल अकाउंट ओपन करें और दूसरे टैब ओपन करके गूगल एडसेंस में अपनी सारी डीटेल्स डाल दें। बस इसके बाद आपको अपना गूगल एडसेंस अकाउंट यू-ट्यूब चैनल से लिंक करना होता है। यू-ट्यूब से होने वाली सारी कमाई एडसेंस के माध्यम से आती है।
सबस्क्राइब करवाना ज़रूरी- अपने यू-ट्यूब चैनल को लोगों से सबस्क्राइब करने के लिए कहें। आपके जितने ज्यादा सबस्क्राइबर्स होंगे उतना ही आपका वीडियो वायरल होगा।
यू-ट्यूब करेगा मदद- अगर आपका मन भी एक यू-ट्यूब वीडियो बनाने का है और आपके पास सुविधाएं नहीं हैं तो परेशान होने की ज़रूरत नहीं है। बस आपको शुरुआत करनी है यू-ट्यूब आपकी खुद मदद कर देगा।
यू-ट्यूब स्पेस- यू-ट्यूब खुद चाहता है कि यूज़र्स कंटेंट प्रोड्यूस करें। भारत के मुंबई शहर में यू-ट्यूब स्पेस मौजूद है यहां जाकर आप फ्री में यू-ट्यूब के कैमरा, माइक, लाइट आदि इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन यू-ट्यूब स्पेस को इस्तेमाल करने के लिए आपको इन 4 शर्तों पर खरा उतरना पड़ेगा-
1. आपकी उम्र 18 वर्ष से ज्यादा हो
2. आपको पास 1000 से ज्यादा सबस्क्राइबर हों
3. आपके चैनल पर कॉपीराइट का कोई क्लेम ना हो
4. आपने यू-ट्यूब पर एक बार अनलॉक स्पेस सेशन अटेंड किया हो
giay nam depgiay luoi namgiay nam cong sogiay cao got nugiay the thao nu