फिल्म ‘ए जेंटलमैन’ की लोकेशनें तो बहुत खूबसूरत हैं

इस सप्ताह प्रदर्शित फिल्म ‘ए जेंटलमेन’ का प्रचार तो खूब किया गया लेकिन इस फिल्म की पटकथा पर भी यदि मेहनत की गयी होती तो ठीक रहता। सिद्धार्थ मल्होत्रा को विभिन्न रूपों में प्रदर्शित करने पर ही निर्देशक का ध्यान लगा रहा जिससे फिल्म के अन्य कलाकार दब से गये हैं। हालांकि निर्देशक ने बहुत खूबसूरत विदेशी लोकेशनों पर फिल्म की शूटिंग की है लेकिन इतना भर पर्याप्त नहीं है दर्शकों को सिनेमाहाल तक खींच कर लाने के लिए। फिल्म की कहानी में दिखाया गया है कि गौरव (सिद्धार्थ मल्होत्रा) सुंदर और सुशील लड़का है, जो मियामी में एक कंपनी में जॉब करता है। उसकी जिंदगी में गर्लफ्रेंड को छोड़कर बाकी सभी कुछ है। वह अपने साथ काम करने वाली काव्या (जैकलीन फर्नांडिस) को पटाने की कोशिश करता है लेकिन जैकलीन चाहती है कि उसका लाइफ पार्टनर सुंदर और सुशील होने के साथ रिस्की भी हो। हालांकि काव्या के माता पिता को गौरव सर्वगुण संपन्न पसंद आ जाता है। दूसरी ओर मुंबई में कर्नल (सुनील शेट्टी) की यूनिट एक्स में काम करने वाला ऋषि (सिद्धार्थ मल्होत्रा) बेहद खतरनाक फाइटर है। कर्नल के लिए वह अपने साथ काम करने वाले याकूब (दर्शन कुमार) के साथ खतरनाक मिशनों को अंजाम देता है। एक बार ऋषि किसी खुफिया मिशन पर मियामी पहुंचता है तो अचानक काव्या यह देखकर हैरान रह जाती है कि उसका ब्वॉयफ्रेंड गौरव गुंडों से मुकाबला कर रहा है। आगे क्या होता है यह जानने के लिए फिल्म देखना ठीक रहेगा।

अभिनय के मामले में सिद्धार्थ मल्होत्रा ठीकठाक रहे हैं। उन्होंने सीधे-सादे गौरव के रोल को बखूबी निभाया है लेकिन रिस्की ऋषि के रोल में वह उतना नहीं जमे हैं। जैकलीन के पास करने के लिए बहुत कुछ नहीं था लेकिन फिर भी फिल्म के कुछ गानों में वह जमी हैं। यही नहीं एक्शन दृश्यों में भी उन्होंने मेहनत की है। दर्शन कुमार ने जरूर अपना दम दिखाया है। कई सीन में वह सिद्धार्थ को पूरी टक्कर देते हैं। सिद्धार्थ के दोस्त के रोल में हुसैन दलाल कई जगह दर्शकों को हंसाने में सफल रहे। सुनील शेट्टी मेहमान भूमिका में हैं। फिल्म का गीत संगीत ठीकठाक है। निर्देशक राज और डीके की यह फिल्म अगर सिर्फ टाइमपास ही करना है तो देखी जा सकती है।
giay nam depgiay luoi namgiay nam cong sogiay cao got nugiay the thao nu