श्रीलंका में सांसद ने तमिलों के लिए साझा स्मारक बनाने का प्रस्ताव रखा

श्रीलंका के एक वरिष्ठ सांसद ने लिट्टे के खिलाफ तीन दशक तक चले नृशंस गृह युद्ध के दौरान मारे गए हजारों तमिलों की याद में देश में एक साझा स्मारक बनाने का प्रस्ताव रखा है। श्रीलंका में तमिल अल्पसंख्यक समूह हर साल 18 मई को स्मरणोत्सव दिवस के रूप में मनाते हैं। लिट्टे नेता वेलुपिल्लई प्रभाकरण की मौत के साथ वर्ष 2009 में इसी दिन 30 साल लंबा संघर्ष समाप्त हुआ था। सरकार समर्थक ईलम डेमोक्रेटिक पीपुल्स पार्टी (ईपीडीपी) नेता डुगलस देवानंद ने संघर्ष के दौरान मारे गए तमिलों की याद में युद्ध स्मारक बनाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि श्रीलंकाई सरकार स्मारक बनाने के खिलाफ नहीं है। श्रीलंका के रक्षा मंत्री रुवन विजयवद्धने ने देवानंद के प्रस्ताव पर कहा, ‘‘यह निश्चित तौर पर अहम है कि युद्ध में मारे गए हर व्यक्ति को याद किया जाए। यह केवल एक जाति या समुदाय तक सीमित नहीं होना चाहिए।’’

giay nam depgiay luoi namgiay nam cong sogiay cao got nugiay the thao nu