करोली में स्थित मदन मोहन मंदिर का है ऐतिहासिक महत्व

वैष्णव मत के मंदिरों की श्रृंखला में भगवान श्रीकृष्ण को समर्पित मदन मोहन जी का मंदिर राजस्थान की राजधानी जयपुर से 182 किलो मीटर दक्षिण पूर्व में करोली जिला मुख्यालय पर स्थित है। राजस्थान में कृष्ण के अनेक मंदिरों में मदन मोहन मंदिर भी अपना विशेष स्थान रखता है। यह मंदिर भी वैष्णव पद्धति के अनुरूप हवेली में ही बनाया गया है, जो करोली महल का एक हिस्सा है। मदन मोहन जी मंदिर का गर्भगृह तीन खण्डों में विभक्त है। मध्य में वेदी पर कृष्ण स्वरूप में मदन मोहन जी विराजते हैं तथा उनके दांई ओर के खण्ड में राधा एवं ललिता देवी साथ−साथ हैं तथा बांई ओर वेदी पर गोपाल जी कृष्ण स्वरूप में विराजमान हैं। मध्य भाग में एन्टिक महत्व की भगवान श्रीकृष्ण की मूर्ति तीन फुट एवं राधा की मूर्ति दो फुट ऊंची अष्ट धातु की हैं। ये मूर्तियां एंटिक हैं। मंदिर में विराजमान श्रीकृष्ण का विग्रह शैशव स्वरूप होने के कारण भक्ति का प्रमुख स्त्रोत है। मंदिर के गर्भगृह के चक्करदार परिपथ पर चित्रों की बड़ी श्रृंखला नजर आती है। गर्भगृह, चौंक एवं विशाल जगमोहन वास्तुकला एवं सुन्दरता के अद्भुत नमूने हैं। मंदिर का निर्माण करोली के पत्थरों से किया गया, जिसमें मध्ययुगीन कला के दर्शन होते हैं। मंदिर को बनाने में 2 से 3 वर्ष का समय लगा। मंदिर के प्रवेश द्वार से गर्भगृह के बीच लम्बा चौबारा है। गर्भगृह में सुन्दर नक्काशी का काम देखते ही बनता है। गर्भगृह के सामने चौक में अनेक छोटे−छोटे मंदिर एवं मूर्तियां बने हैं। सम्पूर्ण परिसर में धार्मिक देवी−देवताओं एवं भगवान श्रीकृष्ण के कथानकों के आधार पर बड़े−बड़े आकर्षक चित्र बनाये गये हैं। इस चौक की दीवारों की शिल्प कला मन मोह लेती है। रात्रि में जब चांदनी रात होती है तो मंदिर का सौन्दर्य अतुल्य होता है। यह मंदिर वर्तमान में देवस्थान विभाग के अधीन है। मंदिर में 5 बार भोग लगाया जाता है, जिसमें दोपहर का राजभोग एवं सायंकाल शयन भोग प्रमुख हैं। विशेष अवसरों पर छप्पन भोग भी लगाया जाता है। प्रातः 5 बजे मंगला आरती, 9 बजे धूप आरती, 11 बजे श्रृंगार आरती, दोपहर 3 बजे धूप आरती एवं सायं 7 बजे संध्या आरती की जाती है। मंदिर प्रातः 5 बजे से रात्री 10 बजे तक खुला रहता है। मंदिर का सबसे प्रबल एवं मूलाधार उत्सव मदन मोहन जी का मेला है जो अमावस्या पर आयोजित किया जाता है। मंदिर में आयोजित जन्माष्टमी, राधा अष्टमी, गोपाष्टमी एवं हिंडोला उत्सवों में सैलानी भी बड़ी संख्या में भाग लेते हैं। मदन मोहन जी की प्रतिमा मूल रूप से वृंदावन में कालीदह के पास द्वादशादित्य टीले से प्राप्त हुई थी। वृंदावन पर औरंगजेब के हमले के दौरान मूल मंदिर का शिखर (शिखर) ध्वस्त किया गया था। मुगलों के आक्रमण के समय सुरक्षा की दृष्टि से मूर्ति को जयपुर ले जाया गया था। करोली के मंदिर का निर्माण यहां के राजा गोपाल सिंह ने 1725 ई. में करवाया था। बताया जाता है कि दौलताबाद पर विजय के बाद महाराजा गोपाल सिंह को सपना आया जिसमें उन्हें मदन मोहन जी ने कहा कि मुझे करोली ले चलो तब मदन मोहन की प्रतिमा को जयपुर के आमेर से लाकर यहां करोली में स्थापित किया गया। महाराजा गोपाल सिंह ने मुर्शिदाबाद के रामकिशोर को मंदिर सेवा का प्रथम प्रभार सौंपा था। इसके बाद मदन किशोर यहां के गुंसाई रहे। उस समय करोली के मंदिर को राजघराने की ओर से अचल संपत्ति प्रदान की गई जिससे 18वीं सदी में 27 हजार रूपया सालना आय होती थी।

giay nam depgiay luoi namgiay nam cong sogiay cao got nugiay the thao nu