मैटेरियल रिसर्च के लिये प्रोफेसर राव को मिलेगा अंतरराष्ट्रीय सम्मान

बेंगलुरू। प्रख्यात वैज्ञानिक प्रोफेसर सी एन आर राव ऐसे पहले एशियाई बन गये हैं जिन्हें मैटेरियल रिसर्च में अपने अभूतपूर्व योगदान के लिये प्रतिष्ठित ‘वॉन हिप्पेल’ पुरस्कार से सम्मानित किया जायेगा। यह पुरस्कार अमेरिका-स्थित मैटेरियल्स रिसर्च सोसाइटी (एमआरएस) का सबसे प्रतिष्ठित सम्मान है। पुरस्कार के प्रशंसात्मक लेख में नैनो मैटेरियल्स (सबसे मजबूत एवं महीन मैटेरियल) और 2डी मैटेरियल्स, सुपर कंडक्टिविटी और कोलोसल मैग्नेटोरेसिस्टांस (मैग्नेटिक फील्ड में मैटेरियल के विद्युतीय प्रतिरोध में बदलाव) सहित फंक्शनल मैटेरियल पर राव के अभूतपूर्व कार्य का उल्लेख किया गया है। जवाहर लाल नेहरू सेंटर फॉर एडवांस्ड रिसर्च की ओर से यहां जारी विज्ञप्ति के अनुसार भारत रत्न राव को यह पुरस्कार 29 नवंबर को बोस्टन में एमआरएस बैठक के दौरान दिया जायेगा। राव जवाहर लाल नेहरू सेंटर फॉर एडवांस्ड रिसर्च के संस्थापक सदस्य हैं। पुरस्कार में नकद पुरस्कार, ट्रॉफी और एक डिप्लोमा प्रदान की जायेगी।

giay nam depgiay luoi namgiay nam cong sogiay cao got nugiay the thao nu