पनामा घोटाले में पाक वित्त मंत्री जवाबदेही अदालत में पेश हुए

पाकिस्तान के अपदस्थ प्रधानमंत्री के करीबी सहयोगी तथा विवादों में घिरे देश के वित्त मंत्री इसहाक डार पनामा पेपर्स घोटाले से संबंधित रिश्वत के मामले की सुनवाई के लिए सातवीं बार यहां भ्रष्टाचार निरोधक अदालत में पेश हुए। डॉन की खबरों के अनुसार सुनवाई में राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो ने मंत्री के खिलाफ दो नये गवाह पेश किये। पनामा पेपर्स घोटाला मामले में सर्वोच्च न्यायालय के 28 जुलाई के फैसले के बाद ब्यूरो ने 67 वर्षीय डार के खिलाफ आठ सितंबर को एक केस दर्ज किया था। पनामा पेपर से संबंधित सर्वोच्च न्यायालय के फैसले में शरीफ और उनके परिवार को दोषी करार दिया गया था। शीर्ष अदालत ने शरीफ को अयोग्य करार देते हुए उनके, उनके बच्चों मरियम, हुसैन और हसन तथा दामाद मोहम्मद सफदर के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज करने का आदेश दिया था। खबर में कहा गया है कि पहला गवाह तथा एक निजी बैंक की पार्लियामेंट शाखा के प्रबंधक अब्दुल रहमान गोंडल ने अपना बयान दे दिया है और डार के अधिवक्ता ख्जावा हारिस जिरह कर रहे हैं। इसमें कहा गया है कि गोंडल ने डार के बैंक खातों की जानकारी उपलब्ध करवायी है। प्रबंधक ने अदालत को बताया कि जवाबदेही ब्यूरो ने 16 अगस्त को संबंधित दस्तावेजों के साथ उन्हें समन किया था और डार से संबंधित रिकार्ड उन्होंने ब्यूरो के जांच अधिकारी को दे दिया है। गोंडाल ने बताया कि उन्होंने 25 मार्च 2005 से 16 अगस्त 2017 तक के डार के खाते का स्टेटमेंट ब्यूरो को मुहैया करवा दिया है। खबर में यह भी कहा गया है कि गवाह ने डार के बैंक लेन देन की जो विस्तृत जानकारी मुहैया करवायी है, अदालत ने उसे मुकदमे के रिकार्ड में शामिल कर लिया है। निजी बैंक में आरेशन प्रबंधक के पद पर तैनात दूसरा गवाह मसूद गनी आज दिन में बाद में अपनी गवाही देंगे। इससे पहले मंत्री के वरिष्ठ अधिवक्ता के हड़बड़ी में देश छोडने के बाद बुधवार को रिश्वत मामले की सुनवाई को अदालत ने 23 अक्तूबर तक के लिए स्थगित कर दी थी।

giay nam depgiay luoi namgiay nam cong sogiay cao got nugiay the thao nu