आगे बढ़ने से पहले अक्सर रेड लाइट पर रुकना भी पड़ता है: सुशील

तीन साल के लंबे अंतराल के बाद यहां राष्ट्रीय कुश्ती चैंपियनशिप के जरिये मैट पर वापसी करने से ठीक पहले ओलंपिक पदक विजेता पहलवान सुशील कुमार का ‘दार्शनिक अंदाज’ नजर आया। उन्होंने कहा कि उतार-चढ़ाव जिंदगी का ​हिस्सा हैं और कई बार जीवन में आगे बढ़ने से पहले रेड लाइट पर रुककर थोड़ी देर इंतजार भी करना पड़ता है। यहां राष्ट्रीय चैंपियनशिप में हिस्सा लेने पहुंचे सुशील ने कहा, ‘‘मैं अपने गुरू महाबली सतपाल के आदेश पर मैट पर उतर रहा हूं। तीन साल के अंतराल के बावजूद मैं किसी युवा पहलवान की तरह ही महसूस कर रहा हूं। राष्ट्रीय कुश्ती चैम्पियनशिप लड़कर हर पहलवान खुद को तरोताजा महसूस करता है, चाहे वह कुश्ती के क्षेत्र में नया हो या पुराना।’’ भारत को दो बार ओलंपिक पदक दिलवाने वाले इस 34 वर्षीय स्टार पहलवान ने पिछले कुछ समय में अपने करियर में कई उतार-चढ़ाव देखे हैं। इस बारे में पूछे जाने पर सुशील ने कहा, ‘‘ जब आदमी आगे बढ़ता है, तो उसे उतार-चढ़ाव का सामना भी करना पड़ सकता है। कहीं उसे ठोकर लगती है, तो कहीं उसे आगे बढ़ने के लिये रेड लाइट पर थोड़ी देर रुककर इंतजार करना पड़ता है।’’ राष्ट्रीय कुश्ती चैंपियनशिप में 74 किलोग्राम वर्ग में रेलवे की नुमाइंदगी कर रहे सुशील कल मैट पर उतरेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘उतार-चढ़ाव जीवन का ​​हिस्सा हैं। दरअसल जीवन जीने का​ मंत्र भी यही है कि इंसान को कई बार नये सिरे से शुरूआत करनी पड़ती है।’’ कुश्ती की आगामी अंतरराष्ट्रीय स्पर्धाओं की तैयारी के बारे में पूछे जाने पर पुरुष फ्रीस्टाइल के इस दिग्गज पहलवान ने कहा कि फिलहाल उनकी निगाहें केवल राष्ट्रीय कुश्ती चैम्पियनशिप पर टिकी हैं। इंदौर से अपने जुड़ाव का जिक्र करते हुए सुशील ने कहा कि मध्यप्रदेश के इस सबसे बड़े शहर को कुश्ती के बड़े प्रशिक्षण केंद्र के रूप में ​विकसित किया जाना चाहिये। उन्होंने कहा, ‘‘इंदौर में मुझे हमेशा लोगों का प्यार और दुआएं मिली हैं। मुझे शहर के वरिष्ठ कोच कृपाशंकर पटेल का मार्गदर्शन ​भी मिलता रहता है। उम्मीद है कि राष्ट्रीय कुश्ती चैंपियनशिप के दौरान मुझे इस बार भी लोगों का पूरा समर्थन मिलेगा जिससे मैं एक ​बार फिर इस खेल में देश की नुमाइंदगी कर सकूंगा।’’ सुशील को पिछली बार वर्ष 2014 के ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों में चुनौती पेश करते हुए देखा गया था जहां उन्होंने स्वर्ण पदक जीता था। उन्हें रियो ओलंपिक 2016 में हिस्सा लेने से रोक दिया गया था, जब डब्ल्यूएफआई इस वादे से पलट गया कि इन खेलों में भारत का प्रतिनिधत्व करने का फैसला करने के लिये उनके और नरसिंह के बीच ट्रायल से होगा।

giay nam depgiay luoi namgiay nam cong sogiay cao got nugiay the thao nu