कोटला में 2020 तक नहीं खेला जाएगा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच

रतलब है राष्ट्रीय राजधानी के फिरोजशाह कोटला स्टेडियम में भारत के खिलाफ खेले जा रहे तीसर टेस्ट मैच के दूसरे दिन रविवार को मेहमान टीम श्रीलंका के कुछ खिलाड़ियों ने दिन के दूसरे सत्र में मास्क पहनकर फील्डिंग की। कुछ श्रीलंकाई खिलाड़ी दूषित हवा की वहज से परेशान थे जिसकी वजह से खेल भी रोकना पड़ा था। खेल के चौथे दिन भी श्रीलंकाई खिलाड़ी मैदान पर मास्क पहन कर फील्डिंग करते हुए भी नजर आए। बीसीसीआई ने अगले दो साल के लिए इस मैदान पर कोई भी इंटरनेशनल मैच नहीं करवाने का फैसला लिया है। फैसले के पीछे रोटेशन पॉलिसी को बता जा रहा है।

बीसीसीआई के मुताबिक बोर्ड हर साल फरवरी-मार्च तक घरेलू सीजन के लिए नया फ्यूचर टूर प्रोग्राम बनाती है। इस प्रोग्राम के तहत कोटला को अब 2020 से पहले टेस्ट मैच कराने का मौका शायद ही मिले। दरअसल दिल्ली में उनके कोटे के मुताबिक टी-20 और टेस्ट होस्ट करने का मौका मिल चुका है। नवंबर में दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान पर एक T-20 मैच का आयोजन हुआ था और अब दिसंबर में टेस्ट मैच कराया जा रहा है। इस लिहाज से अब अगले साल देश के अन्य शहरों को भारत के मुकाबलों की मेजबानी करने का मौका दिया जाएगा। गौरतलब है कि दिल्ली के प्रदूषण स्तर को लेकर श्रीलंकाई खिलाड़ी शिकायत कर चुके हैं। कोटला टेस्ट के दूसरे दिन का खेल 26 मिनट तक रोकना पड़ा था। चौथे दिन भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी की तबीयत खराब हो गई थी। श्रीलंका के गेंदबाज सुरंगा लकमल को भी मैदान छोड़ना पड़ा था।

Leave a Reply

giay nam depgiay luoi namgiay nam cong sogiay cao got nugiay the thao nu