सुषमा और मालदीव के विदेश मंत्री के बीच सार्थक वार्ता

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मालदीव के अपने समकक्ष मोहम्मद आसिम से ‘‘कारगर’’ बातचीत की। दोनों देशों के विदेश मंत्रियों के बीच यह बातचीत चीन और मालदीव के बीच मुक्त व्यापार समझौते (एफटीए) के लिए हस्ताक्षर सहित कई मुद्दों पर द्विपक्षीय संबंधों में तनाव के बीच हुई है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया कि सुषमा ने मालदीव के विदेश मंत्री और राष्ट्रपति के विदेश दूत मोहम्मद आसिम से मुलाकात की। मालदीव की ‘भारत पहले’ की नीति और हमारी ‘पड़ोसी पहले’ की नीति को ध्यान में रखते हुए दोनों ने द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने के लिए कारगर चर्चा की। माना जाता है कि मालदीव के नेता ने दोहराया कि मालदीव ऐसा कोई काम नहीं करेगा जिससे भारतीय हितों को नुकसान पहुंचे और यह भी कहा गया कि उनका देश हिन्द महासागर क्षेत्र में शांति और सुरक्षा को लेकर भारत की चिंताओं को लेकर ‘‘संवेदनशील’’ है। भारत पहले ही स्पष्ट कर चुका है कि उसे उम्मीद है कि एक करीबी एवं मित्रवत पड़ोसी होने के नाते मालदीव अपनी ‘भारत पहले’ की नीति को ध्यान में रखकर उसकी चिंताओं को लेकर संवेदनशील होगा। भारत ने यह प्रतिक्रिया मालदीव चीन मुक्त व्यापार समझौते (एफटीए) से जुड़े एक सवाल के जवाब में दी।

Leave a Reply

giay nam depgiay luoi namgiay nam cong sogiay cao got nugiay the thao nu