नए ऋण नियमों के प्रभाव से कम हो रहे हैं कर्जदार

– गत 1 जनवरी से लागू हुए नए ऋण नियमों के प्रभाव से वैकल्पिक लेंडरों से कम कर्जा लिया जा रहा हैं।
टोरंटो। ऋण ब्रोकरस ने कहा कि बड़े बैंकों द्वारा बॉरोअर रिजेक्शन रेट और ट्रैडीशनल मॉनोलीन मॉरटेज लेंडरस को 20 प्रतिशत तक बढ़ा दिए जाने के पश्चात यह स्थिति उत्पन्न हुई। इतनी अधिक ऋण दरों के कारण घर खरीददारों ने मॉरटेज इंश्योरेंस को लेना भी छोड़ दिया। जिसके परिणाम से वैकल्पिक लेंडरों से कर्जा लेने वालों की संख्या में बहुत कमी देखी गई, जोकि चिंता का विषय हैं। कर्ज आवश्यकताओं में भारी फेरबदल का उचित प्रभाव जांचने के लिए सुपरीटेंडडेंट ऑफ फाईनेन्सीयल इन्सटीट्यूटस द्वारा कार्य किया जा रहा हैं। बरलींगटन, ओंटेरियो के प्रो फंडस मॉरटेजस के अध्यक्ष कारमेन चैम्पेजनैरो ने कहा कि अब उपभोक्ता निजी लेनदारों से अधिक कर्जा नहीं लेना चाहते जबकि एमसीआईएस और क्रेडिट यूनियनस जो प्रांतीय नियमक हैं और उन्हें किसी भी प्रकार के कोई स्ट्रेस टेस्ट की आवश्यकता नहीं। यद्यपि कैम्पेंगनारो उन ब्रोकरों में से एक हैं जिन्होंने गत 1 जनवरी से बढ़े 20 प्रतिशत दर के पश्चात पारंपरिक लेंडरों के आवेदन को मना कर दिया। विक्टोरिया में निजी संस्था के द्वारा जारी बयान में कहा गया कि कर्जदारों की अस्थाई संख्या के कारण इन दरों में और अधिक प्रभाव पड़ सकता हैं। नोबल ने कहा कि कुछ लोग इस प्रकार की दरों का भुगतान देने में अयोग्य हैं, परंतु वह ऐसा जाहिर नहीं होने देते। उन्होंने आगे कहा कि बी20 के अनुसार जारी निर्देशों का मकसद घरों के दामों को और अधिक करना हैं। इस आदेश के अनुसार केंद्रीय नियामक लेंडरस घर खरीदने वालों को उनके अनिश्चित कर्जों पर निश्चित दर में कर्जा उपलब्ध करवाने मेें मदद करेंगे।

Leave a Reply

giay nam depgiay luoi namgiay nam cong sogiay cao got nugiay the thao nu